>हिंदू राष्ट्र की संकल्पना में शुद्र कभी भी सुरक्षित नहीं रहेंगे ( Expose Party of India )

🧐हिंदू राष्ट्र की संकल्पना में शुद्र कभी भी सुरक्षित नहीं रहेंगे।
शूद्र बिरयानी बेचता है तो दिक्कत
शूद्र घोड़ी पर सवार होकर बारात निकाले तो दिक्कत 
शूद्र बराबर की कुर्सी में बैठे तो दिक्कत
 शूद्र बराबर में बैठकर खाना खाए तो दिक्कत 
शूद्र शव यात्रा निकाले तो दिक्कत 
शूद्र व्यवसाय करता है तो दिक्कत  
शूद्र मूंछें रखता है तो दिक्कत 
शूद्र पगड़ी पहने तो दिक्कत
शूद्र का घर मंदिर के बगल में है तो दिक्कत
शूद्र घोड़े खरीदकर चढ़ना चाहे तो दिक्कत 
शूद्र सवर्ण लड़कियों से प्रेम-विवाह करे तो दिक्कत
शूद्र परीक्षा में अच्छे नंबर लाए तो दिक्कत 
शूद्र मंदिर प्रवेश करे तो दिक्कत 
शूद्र विश्वविद्यालयों में प्रवेश करे तो दिक्कत
शूद्र हक अधिकार की बात करे तो दिक्कत
शूद्र अपनी मेहनताना माँगे तो दिक्कत 
शूद्र मनुवादी व्यवस्था का विरोध करे तो दिक्कत
शूद्र अपने मताधिकार का प्रयोग करे तो दिक्कत
शूद्र महंगे जूते पहने तो दिक्कत 
शूद्र महंगे कपड़े पहने तो दिक्कत
शूद्र महंगी घड़ी पहने तो दिक्कत
 शूद्र महंगे कार खरीदे तो दिक्कत 
शूद्र सूट-बूट में रहे तो दिक्कत
शूद्र विज्ञान की बातें करता हो तो दिक्कत 
शूद्र अंधविश्वास की पोल खोले तो दिक्कत


शूद्रों को उपरोक्त सभी अधिकार भारत का संविधान से मिलता है,और संविधान के वजह से ही उनके अधिकार सुरक्षित हैं लेकिन मौजूदा केंद्र में बैठी मनुवादी सरकार भारत का संविधान में प्रदत्त अधिकार को चुनौती दे रहे हैं, शूद्र वर्ग के चुने हुए जनप्रतिनिधि इस चुनौती के बावजूद चुप्पी साधे हुए हैं।
 संविधान सुरक्षित रहेगा तभी शूद्र सुरक्षित रह पाएंगे अन्यथा शूद्रों को मिलने वाले अधिकारों से जिन्हें दिक्कतें पैदा होती है,वह लोग मनुस्मृति के चाहने वाले लोग होते हैं।
साथियों इस तरह के होने वाले अत्याचार उत्पीड़न को सिर्फ देखकर-सुनकर-पढ़कर चुप नहीं रहना होगा। पीड़ित पक्ष के मनोबल बढ़ाने के लिए उन्हें साथ देना होगा।
 और इस तरह की घटनाओं का प्रतिकार करने के लिए सदैव तैयार भी रहना होगा।
हिंदू राष्ट्र की संकल्पना में शूद्र कभी भी सुरक्षित नहीं रहेंगे।


आप कहते हैं कि सब समान हो.......।😊


अब बताईये दोगला कौन हैं शूद्र या सवर्ण ।😊😁