महाराष्ट्र के सिल्लोड जिल्हे में, 32 वर्षीय माता और उसकी 7 वर्षीय बिटिया के साथ जातिय द्वेष से सामूहिक बलात्कार कर, उनके गुप्तांगों में लकड़ियाँ ठूँसकर मार डाला गया, उसके पश्चात शैतान सवर्णों ने उनकी लाश कुँए में फेंक दी।

महाराष्ट्र के सिल्लोड जिल्हे में, 32 वर्षीय माता और उसकी 7 वर्षीय बिटिया के साथ जातिय द्वेष से सामूहिक बलात्कार कर, उनके गुप्तांगों में लकड़ियाँ ठूँसकर मार डाला गया, उसके पश्चात शैतान सवर्णों ने उनकी लाश कुँए में फेंक दी।


ज्ञात हो कि जाति द्वेष के ही चलते ब्राह्मण एडिटरों द्वारा संचालित मुख्य मीडिया में इस समाचार को किसी ने प्रसारित नही किया, सवर्णों की एकता की महान जातिवादी मिसाल है यह।


तस्वीर में जो बालक दिख रहा है, वह उस महिला का नन्हा बेटा है, जो पोस्टमॉर्टेम डिपार्टमेंट के बाहर अपनी माँ के लौट आने का इंतज़ार कर रहा है, वह नही जानता कि वह यतीम हो चुका है, और इसमें चुप बैठे ब्राह्मणी सवर्ण भी उतने ही ज़िम्मेदार हैं जितने बलात्कारी हत्यारे सवर्ण हैं।
Copy by.
Rahul Shende
Ajay gautam