राजनीति का घमासान युद्ध चरमसीमा पर

💐💐घमासान सत्ता के लिए।
दिल्ली की सत्ता को पाने के लिए, राजनीति का घमासान युद्ध चरमसीमा पर है ।सभी कुछ जायज है।चाहे वो नागरिकता सशोधन कानून के विरोध ने शाहीन बाग में बैठी महिलाओ को लेकर हो या फिर JNU, या फिर जामिया में आज विरोध प्रदर्शन में  एक लड़के का तमंचा लेकर जय श्रीराम कहते हुए छात्रों पर गोली चलाना  ये साबित करता है।कि आज देश की सरकार के पास चुनाव के लिए कोई ठोस मुद्दे नही  देश के प्रधान मंत्री ,ग्रहमंत्री  हो या फिर इनके अन्य नेता,अनुराग ठाकुर,प्रवेश वर्मा, के अनर्गल भाषण बाजी करना येही बाकी रह गया है।आखिर देश की जनता को किया सन्देश देना चाहते है।
आज के परिवेश पर पैनी दृष्टि डाले।तो पता चलता है की संवेधानिक कर्तव्यो को तिलांजलि दे दी गई है कियुकि जिन का जिक्र संविधान में किया गया है।हमारे लोकतांत्रिक परिवेश में उसके उल्टा ही मनुवादि विचारधार काम कर रही है।संवेधानिक  कर्तव्यो के  तहत  संविधान का पालन करे।उल्लेखनीय है ,जहाँ भारत के संविधान को पवित्र किताब  मानते हुए इसका सभी सम्मान करें।।
जागरूक बने,  सतर्क रहें।
डॉ उषा सिंह प्रदेश अध्यक्ष - EPI