जन्मोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं!🙏      आज दिनांक 14-04-2020 परमपूज्य, विश्व-विख्यात, ज्ञान के प्रतीक, डा०-बाबा साहेब आंबेडकर जी के 129वें जन्मोत्सव पर सभी साथियों को हार्दिक शुभकामनाएं

🙏जन्मोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं!🙏
     आज दिनांक 14-04-2020 परमपूज्य, विश्व-विख्यात, ज्ञान के प्रतीक, डा०-बाबा साहेब आंबेडकर जी के 129वें जन्मोत्सव पर सभी साथियों को हार्दिक शुभकामनाएं🙏🙏
  आप के ज्ञान रूपी प्रकाश से लाखों-करोडो़ं शूद्रों को मानसिक गुलामी से मुक्ति मिली। आज के अवसर पर एक दो ऐसा ही अनुभव साझा करना उचित समझता हूं।
    1985 में एक दिन सुबह उठने के बाद समाचार पत्र में लिखा पाया कि, यदि बाबा साहेब की किताब महाराष्ट्र सरकार नहीं छापेगी तो हमलोग राम का पुतला जलाएंगे। यह बात आर पी आई ने प्रतिक्रिया में कालाघोड़ा पर (मुम्बई) में एक मोर्चे में, बाला साहब ठाकरे के बिरोध में कहीं थी। मुझे बहुत तकलीफ़ हुई और यहां तक प्रतिक्रिया में कहा कि, कौन पागल है, जो भगवान राम का पुतला जलाने की बात कर रहा है। माफी चाहता हूं, उस समय तक मैं हनुमान जी का परम भक्त था और ब्राह्मणी ज्ञान के अनुसार, मुझ पर शनि भगवान का दोष होने के कारण, हर शनिवार को हनुमान मंदिर में पूजा अर्चना और दान-दक्षिणा करता था।
  मैं उस समय उप मंडल अभियंता के पद पर MTNL Mumbai में कार्यरत था। आफिस में,अपने मराठी साथियों  से पूछताछ करके कारण मालूम किया। बहुत ही प्रयास के बाद वह विवादित पुस्तक "रिडिस् इन हिंदूइज्म" पढ़ने को मिली, मंथन किया, परिणाम यह हुआ कि, अपने घर में जो, हनुमान जी का मंदिर रखा था, वह एक कचरे की तरह महसूस होने लगा था और उसे उसकी जगह पर ले जाकर फेंक दिया था। उसी दिन से मैं भगवान नाम के भूत से मुक्त हो गया।
  महसूस किया, किसी स्वार्थी मूर्ख ब्राह्मण ने, मेरे दिलो-दिमाग में, अज्ञानता और लालच में, भगवान नाम की आस्था ठूंस दिया था, जिसे इस किताब ने चकनाचूर कर दिया। एक नया जोश, आत्मविश्वास, मनोबल और अपने कर्म पर 100% भरोसा करने का एहसास दिला दिया। एक नयी ताक़त मिली, अपने आप से तर्क पूर्वक प्रश्न किया? भगवान क्यों चाहिए? क्यों चाहिए?- - - नहीं चाहिए!, नहीं चाहिए!- - क्या बिगाड़ लेगा?- - -क्या बिगड़ जाएगा?- - मुझे जीने के लिए मान-सम्मान, रोटी, कपड़ा और मकान चाहिए, बस!
  बाबा साहेब को जानने के बाद उनके विचारों से प्रेरित होकर, शोषित समाज के प्रति समर्पण की भावना जागृत हुई और उनकी किताबों को पढ़ने की भूख बढ़ती गई। बहुत सी किताबों को पढ़ने के बाद महसूस हुआ कि अब मैं सामाजिक और साहित्यिक ज्ञान का कुछ पढ़ा लिखा हूं। परिणाम यह हुआ कि इंजीनियरिंग की नौकरी करते हुए, मैंने 1989 में खुद एक किताब हिन्दी में "बहुजन चेतना" लिखी और प्रकाशित की।
   एक और घटना, जो उनकी अहमियत और ताकत का एहसास दिलाती है।
   1998 की दिवाली से पहले की बात है। मैं लल्लूभाई पार्क टेलीफोन एक्स्चेंज अंधेरी के सरकारी आवास में रहता था। रविवार सुबह दस बजे के आसपास दरवाजे की घंटी बजी। मैंने खुद दरवाजा खोला, करीब 5-6 आशाराम बापू के भक्त, उनके नाम का कलेंडर, घड़ी और कुछ बुकलेट लिए मुझे अपना सदस्य बनाने के लिए खड़े थे। भगवान और आस्था को लेकर बातचीत होने लगी। स्वाभाविक है, तर्क-वितर्क काफी होने लगा। शिष्टाचार के नाते, मैंने कहा बाहर डिस्कस करना ठीक नहीं है, आइए अन्दर बैठ कर चाय नाश्ता के साथ ढंग से बातचीत हो जाएगी। ठीक है, मान गए। मैंने दरवाजा खोला, अभी अन्दर दो ही लोग आए थे कि, सबकी नजर सामने दिवाल पर लगे बाबा साहेब आंबेडकर की फोटो पर पड़ गई। अब क्या सबकी बोलती बंद हो गई, सिर्फ एक दो लोगों ने खड़े खड़े पानी पिया होगा और बाकी तो आग्रह करने पर भी बिना पानी पिए ही उलटे पांव लौट गए।
  मेरी उम्र 70 चल रही है। आज मैं जो भी हूं, इस महापुरुष की बदौलत हूं, तथा आज तक धर्म बिहीन, जाति बिहीन, भगवान बिहीन और ईमानदारी से सन्तुष्ट पूर्ण, खुशहाल जिन्दगी जी रहा हूं।
  धन्य है ऐसे महापुरुष!
   विश्व रत्न, ज्ञान के प्रतीक, परम पूज्य, डा० बाबा साहेब आंबेडकर जी के 129वें जन्मोत्सव पर सभी साथियों को हार्दिक शुभकामनाएं🙏🙏🙏
   शूद्र शिवशंकर सिंह यादव
   मो०-W-7756816035


Popular posts
अमीर दलित दामाद रिश्तेदार और गरीब दलित नक्सली अछूत क्या गजब की पॉलिटिक्स है आज मै दोगली राजनीति से वाकिफ करवाता हूँ 
Image
गर्व से कहो हम शूद्र हैं
देश के अन्दर क्या परम्परा चल रही है जाने
Image
धर्मिक स्त्रियां धर्म के इन आदेशो को कितना सही मानती हैं ? आज भी समाज में विधवा स्त्री का बहुत ज्यादा सम्मान नहीं होता है ,अधिकतर विधवा स्त्री को अपशकुन ही समझा जाता है ।आप वृन्दावन सहित देश के बहुत से हिस्सों में विधवाओ के लिए बने आश्रमो में देख सकते हैं की उनकी क्या दुर्दशा होती है । इस बार वृंदावन में विधवाओ ने सैकड़ो साल की कुरीति तोड़ते हुए होली मनाई । अंग्रेजो के आने से पहले सती प्रथा समाज में कितनी प्रचलित थी यह बताने की जरुरत नहीं है , समाज में विधवा स्त्रियों को जला के उन्हें देवी मान लिया जाता था । समाज में विधवाओ के प्रति यह क्रूरता आई कैसे ?कौन था विधवाओं की दुर्दशा का जिम्मेदार ?जानते हैं - महाभारत के आदिपर्व में उल्लेख है की जिस प्रकार धरती पर पड़े हुए मांस के टुकड़े पर पक्षी टूट पड़ते है , उसी प्रकार पतिहीन स्त्री पर पुरुष टूट पड़ते हैं । स्कन्द पुराण के काशी खंड के चौथे अध्याय में कहा गया है "विधवा द्वारा अपने बालो को संवार कर बाँधने पर पति बंधन में पड़ जाता है अत:विधवा को अपना सर मुंडित रखना चाहिए। उसे दिन में एक बार ही खाना चाहिए वह भी काँसे के पात्र में , या मास भर उपवास रखना चाहिए । जो स्त्री पलंग पर सोती है वह अपने पति को नर्क डालती है , विधवा को अपना शरीर सुगंध लेप साफ़ नही करना चाहिये और न ही श्रंगार करना चाहिए । उसे मरते समय भी बैलगाड़ी पर नहीं बैठना चाहिए , उसे कोई भी आभूषण तथा कंचुकी नहीं पहननी चाहिए कुश चटाई पर सोना चाहिए और सदैव श्वेत वस्त्र पहनने चाहिए ।उसे वैशाख , कार्तिक और माघ मास में विशेष व्रत रखने चाहिए । उसे किसी शुभ कार्य में हिस्सा नहीं लेना चाहिए और हमेशा हरी का नाम जपना चाहिए । विधवा का आशीर्वाद विद्वजन ग्रहण नहीं करते मानो वह कोई सर्प विष हो । विधवाओं के प्रति यह आदेश धर्म का है , आज भी स्त्रियां ही सबसे अधिक धर्मिक प्रवृति की होती हैं ...यदि स्त्रियां धर्म का साथ छोड़ दें तो धर्म नाम की दुकान एक दिन में बंद हो जायेगी । तो आज की धर्मिक स्त्रियां, विधवाओं के प्रति धर्म के इन आदेशो को कितना सही मानती हैं ? - केशव (सजंय)..
Image
"ट्रेन की जंजीर" एक वृद्ध ट्रेन में सफर कर रहा था, संयोग से वह कोच खाली था। तभी 8-10 लड़के उस कोच में आये और बैठ कर मस्ती करने लगे। एक ने कहा, "चलो, जंजीर खीचते है". दूसरे ने कहा, "यहां लिखा है 500 रु जुर्माना ओर 6 माह की कैद." तीसरे ने कहा, "इतने लोग है चंदा कर के 500 रु जमा कर देंगे." चन्दा इकट्ठा किया गया तो 500 की जगह 1200 रु जमा हो गए. चंदा पहले लड़के के जेब मे रख दिया गया. तीसरे ने बोला, "जंजीर खीचते है, अगर कोई पूछता है, तो कह देंगे बूढ़े ने खीचा है। पैसे भी नही देने पड़ेंगे तब।" बूढ़े ने हाथ जोड़ के कहा, "बच्चो, मैने तुम्हारा क्या बिगाड़ा है, मुझे क्यो फंसा रहे हो?" लेकिन किसी को दया नही आई। जंजीर खीची गई। टी टी ई आया सिपाही के साथ, लड़कों ने एक स्वर से कहा, "बूढे ने जंजीर खीची है।" टी टी बूढ़े से बोला, "शर्म नही आती इस उम्र में ऐसी हरकत करते हुए?" बूढ़े ने हाथ जोड़ कर कहा, "साहब" मैंने जंजीर खींची है, लेकिन मेरी बहुत मजबूरी थी।" उसने पूछा, "क्या मजबूरी थी?" बूढ़े ने कहा, "मेरे पास केवल 1200 रु थे, जिसे इन लड़को ने छीन लिए और इस लड़के ने अपनी जेब मे रखे है।" अब टीटी ने सिपाही से कहा, "इसकी तलाशी लो". लड़के के जेब से 1200रु बरामद हुए. जिनको वृद्ध को वापस कर दिया गया और लड़कों को अगले स्टेशन में पुलिस के हवाले कर दिया गया। ले जाते समय लड़के ने वृद्ध की ओर देखा, वृद्ध ने सफेद दाढ़ी में हाथ फेरते हुए कहा ... "बेटा, ये बाल यूँ ही सफेद नही हुए है!" 😁😁😁😁😁😁 अंतर्राष्ट्रीय वरिष्ठ नागरिक दिवस की बधाई 🙏
Image