कुछ पिछड़ी जाति के लोग जिन्दा लाश है

🔥कुछ पिछड़ी जाति के लोग जिन्दा लाश है🔥
    सोसल मीडिया में विचारों के आदान-प्रदान से अनुभव हुआ है कि पिछड़ी जाति के लोग जो मानसिक गुलाम के कारण भगवा मंडली से जुड़े हुए है, उसमें, बहुत से लोग जिन्दा लाश की तरह जिन्दा है। सोते जागते और सपने में भी पाकिस्तान और मुसलमान से डरे हुए हैं। उन्हें लगता है हिन्दू धर्म खतरे में है। कभी सपने में दाढ़ी और छोटा पैजामा देखकर डर जाते हैं, भौंचक्का होकर कभी कभी बिस्तर पर उठकर बैठ जाते हैं। जो डर गया वह मर गया। रोज रोज के डरने और मरने से अच्छा है, आत्म हत्या कर लो, अन्यथा तुम मुर्दों के कारण आने वाली नस्लें नपुंसक हो जाएगी।
 हजारों साल तक मुग़लों मुसलमानों और अंग्रेजों का शासन रहा। हिन्दू धर्म और देश की रक्षा करने वाले क्षत्रियों ने मुगलों मुसलमानो को अपनी बहन-बेटियों को देनें में अपनी शान और मर्यादा समझते थे। ऐसी स्थिति में भी मुस्लिम देश नही बना और न ईसाई देश बना और तब हिन्दू धर्म खतरे में भी नहीं पड़ा, लेकिन जब से हिजड़े हिन्दुओं की पूर्ण बहुमत की सरकार बनी है तब से हिन्दू धर्म और भगवा हिन्दू भी खतरे में पड़ गये है और राष्ट्रवादी बनें फिरते हैं। लानत है ऐसे लोगों के जिन्दा रहने पर।
  शूद्र शिवशंकर सिंह यादव