शूद्रो का शातिर दुश्मन कौन

🔥पांचवां एपिसोड,सुबह,दिनांक 19-04-2020🔥
*🔥शूद्रो का शातिर दुश्मन कौन🔥* 
   आज मेरी उम्र 70 की चल रही है। बचपन मे याद है एक देवकुर घर ( भगवान का घर) हुआ करता था। अनपढ़, गवार कोई भी पुरोहित  ( पंडित ) हर एकादशी (महीने मे दो बार ) को शाम घर पर आता, पाव किलो देशी घी का हवन करता। कुछ घी ले भी जाता था। रूपये पैसे के अलावा दक्षिणा (चावल, आटा दाल) भी देना पड़ता था। 
   *सभी छोटे बड़ो को तिलक लगाता, सभी लोग उसके पैर छूते और वह सबको आशीर्वाद देता था। अर्थात सबको नीच बनाता था। बचपन मे कहानी भी सुनते थे "आन का आटा, आन का घी, शाबस -शाबस बाबा जी "* 
  भगवान् के नाम पर एक सामाजिक धार्मिक परम्परा बन गई थी। इस तरह से ढोंगी पाखंडी  काम, जैसे  बच्चे के जन्म के समय को मूर (अपशकुन ) बता देना और पूजा-पाठ करके शुद्धि करना, तो कभी नामकरण, कभी सत्यनारायण कथा आदि रूपो मे चलता रहता था। ब्राह्मण पाखंड ने हिन्दू धर्म मे जीवन पर्यन्त भरण पोषण का एक तरीका निकाला था, जिसका नाम था "मां बाप का गुरू-मुख होना " इसके माध्यम से गुरु- मुख दम्पति की कमाई मे 25% की हर साल हिस्सेदारी देना और जब कभी गुरू-मुख पंडित जी सामने दिखाई दिए तो दंडवत प्रणाम करना अनिवार्य था ,अन्यथा अनर्थ होने का डर दिलो-दिमाग मे भर दिया गया था। दूध दही या कुछ दक्षिणा मांग दिया तो अपने बच्चे का हक्क मारकर उसको देना पहली प्राथमिकता होती थी। हमे याद आ रहा है आठवी  (1966) तक हमलोगो (10 ) के साथ एक ब्राह्मण का लड़का भी पड़ता था , वह कितना भी बदमाशी करता था, हमलोग उसे ,इस डर से कि बरम लगेगा, कभी उसे गाली या मारते नही थे। 
  *इसी तरह शादी -विवाह या मरने के बाद अन्तिम संस्कार मे भी भाज्ञ -भगवान्, पाप -पुन्य का डर और लालच दिखा कर जन्म से लेकर मरने तक आर्थिक, मानसिक, सामाजिक शोषण करता रहता है ।ब्राह्मण द्वारा अपने जजमान शूद्रो को नीच बनाकर उनका मनोबल गिराना और इस तरह उनको धार्मिक गुलाम बनाना, विश्व का सबसे बड़ा अपराध माना गया है ।* 
 *अफसोस हमलोग आज भी  अज्ञानता और मूर्खता मे अपने पुर्वजो के अपराधियों को ही मान सम्मान देते चले आ रहे है ।* 
 आज भी जब कभी मै गांव जाता हूं ,हमारे समकक्ष या छोटी उम्र का अनपढ़  गवार, ब्राह्मण, सामने होने पर,  जिज्ञासा भर, वह यह उम्मीद करता है कि, मै ही पहले उसे इज्जत देते हुए नमस्कार या पाय लागू बोलू।
 कुछ सामंती अहंकारी शूद्रों का यह विरोधाभास कि आप की परवरिश के माहोल के कारण आप के साथ ऐसा हैं, मेरे साथ ऐसा व्यवहार कभी नहीं हुआ। एक दो अपवाद हो सकता है। मैं आज भी मुंबई में काफी संपन्न यादवों को "पांव लागी पंडित जी" संबोधन करते हुए देखता हूं। हमारे एक चिर- परिचित संमानित डाक्टर साहब को, जिनकी उम्र करीब 75 साल हैं, अपने ब्राह्मण परिचित रोगियों को पांव लागी पंडित जी संबोधन करने पर, उन्हें मैंने टोका भी हैं। उनका कहना, यह शिष्टाचार बहुत पहले से चला आ रहा है।
    *हिन्दू धर्म का मुख्य तत्व ज्ञान भी यही है कि ब्राह्मण सिर्फ मान सम्मान पाने का अधिकारी है, देने का नही ।* 
  हमारा बचपन से लेकर आज तक मुसलमानो से नौकरी पेशा मे या सामाजिक जीवन चर्या मे हमेशा साथ रहा है। मै 1979 - 1998 तक मुस्लिम बहुल क्षेत्र जोगेश्वरी पश्चिम, यादव नगर मे रहा हूं। यादव नगर का अध्यक्ष होने के कारण भी मै यह दावा करता हूं कि,  कभी किसी भी तरह से किसी को अनायास अपमानित नही किया है। उल्टे जब भी सामना  हुआ है ,हमे मान सम्मान और सहयोग ही दिया है और लिया भी है। कुछ असामाजिक तत्व तो हर समाज मे होते है, इसे नकारा नही जा सकता।
   *कुछ लोग तो कुछ कारणो से इतने अच्छे होते है कि हम सोच भी नही सकते, जैसे ब्याज या सूद न लेना, दूध मे पानी न मिलाना, आपस में भाई चारे से रहना, असहाय और गरीबो की  यथाशक्ति मदद करना। मेरा साधारण अनुभव भी कहता है , यदि मुसलमानो के साथ राजनीतिक दुर्भावना, काश्मीर मसला और पर्सनल बाद -विबाद को न देखे ( जो कि हर परिवार मे भाई भतीजे के साथ सबसे ज्यादा होती है )तो कही कोसो दूर तक दुश्मनी का कारण नजर नही आता है ।* 
 *एक अनुभव शेयर करना उचित समझता हं।* 
  बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद मुम्बई मे 1993 मे हिन्दू -मुस्लिम दंगा हो गया। यादव नगर के साथ साथ कुछ और हिन्दू बस्ती चारो तरफ से मुस्लिम बस्ती से घिरी हुई थी । यादव नगर के हनुमान मंदिर और सगुफा बिल्डिंग के मस्जिद की दीवार कामन थी। बाहर से असमाजिक कुछ लोग आते थे, तरह तरह के अफवाह फैला कर दंगा कराने की कोशिश करते थे। किसी भी कीमत पर यादवों और मुसलमानों में दंगा कराना चाहते थे। एक ब्राह्मण भी आता था उसको बराबर जबाब देकर मै भगा देता था। उसका बार बार अफवाही मैसेज जैसे, वहां --- मुसलमानों ने हिन्दुओं को काट डाला, सगुफा बिल्डिंग और मस्जिद में आज रात को हथियारों का जखीरा रखा गया है, मैंने कहा तुम यहां से दूर रहकर हथियारों का जखीरा देख लिया, जब कि हमलोग बाजू में रहकर रात-भर पहरेदारी करके भी नहीं देख पाए। हिन्दू -मुस्लिम शान्ति एकता कमेटी भी बन गई थी । जोगेश्वरी रेल्वे स्टेशन आने जाने के लिए करीब  500 मीटर मुस्लिम बस्ती से ही गुजरना पड़ता था ।किसी हिन्दू को कोई नुकसान न हो, मुस्लिम भाई पूरे रास्ते की चौकसी करते हुए सुरक्षा की जिम्मेदारी लिए हुए थे । मै भी कुछ लोगो के साथ  यादव नगर के बाहर चौराहे पर ही हर समय चौकसी करता था ।पूरी एरिया मे शान्ति थी ।एक बार पुलिस की गाड़ी आई, मै खुद सामने आकर अधिकारी से बात किया और कहा साहब यहा सब नार्मल है। इतना कहते ही डंडे चला दिया और कहा यह तुम्हारा काम नही है घर के बाहर मत निकलो। उनके इरादो को समझते हुए भी अपना फर्ज निभाया और यादव नगर मे दंगा भड़काने के लाख कोशिशों के बाद भी कही किसी को एक खरोच तक नही आई।
  *ठीक है मान लिया स्वतंत्रता से पहले तुम्हारा मनु सम्विधान था। तुमने शूद्रो को आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक तथाकथित हिन्दू बनाकर शोषण किया। लेकिन आज भी समता, समानता और बन्धुत्व पर आधारित शूद्रो के मूलभूत  सम्वैधानिक अधिकारो का हनन और बिरोध भी ब्राह्मण ही करता है जबकि मुसलमान सहयोगी और हमदर्द हर मौके पर दिखाई देता है ।* 
  अब आकलन आप को करना है कि शूद्रो का शातिर दुश्मन कौन है? 
*आप का समान दर्द का हमदर्द साथी!* 
    *शूद्र शिवशंकर सिंह यादव* 
        Mo-W- 7756816035


Popular posts
अमीर दलित दामाद रिश्तेदार और गरीब दलित नक्सली अछूत क्या गजब की पॉलिटिक्स है आज मै दोगली राजनीति से वाकिफ करवाता हूँ 
Image
गर्व से कहो हम शूद्र हैं
देश के अन्दर क्या परम्परा चल रही है जाने
Image
धर्मिक स्त्रियां धर्म के इन आदेशो को कितना सही मानती हैं ? आज भी समाज में विधवा स्त्री का बहुत ज्यादा सम्मान नहीं होता है ,अधिकतर विधवा स्त्री को अपशकुन ही समझा जाता है ।आप वृन्दावन सहित देश के बहुत से हिस्सों में विधवाओ के लिए बने आश्रमो में देख सकते हैं की उनकी क्या दुर्दशा होती है । इस बार वृंदावन में विधवाओ ने सैकड़ो साल की कुरीति तोड़ते हुए होली मनाई । अंग्रेजो के आने से पहले सती प्रथा समाज में कितनी प्रचलित थी यह बताने की जरुरत नहीं है , समाज में विधवा स्त्रियों को जला के उन्हें देवी मान लिया जाता था । समाज में विधवाओ के प्रति यह क्रूरता आई कैसे ?कौन था विधवाओं की दुर्दशा का जिम्मेदार ?जानते हैं - महाभारत के आदिपर्व में उल्लेख है की जिस प्रकार धरती पर पड़े हुए मांस के टुकड़े पर पक्षी टूट पड़ते है , उसी प्रकार पतिहीन स्त्री पर पुरुष टूट पड़ते हैं । स्कन्द पुराण के काशी खंड के चौथे अध्याय में कहा गया है "विधवा द्वारा अपने बालो को संवार कर बाँधने पर पति बंधन में पड़ जाता है अत:विधवा को अपना सर मुंडित रखना चाहिए। उसे दिन में एक बार ही खाना चाहिए वह भी काँसे के पात्र में , या मास भर उपवास रखना चाहिए । जो स्त्री पलंग पर सोती है वह अपने पति को नर्क डालती है , विधवा को अपना शरीर सुगंध लेप साफ़ नही करना चाहिये और न ही श्रंगार करना चाहिए । उसे मरते समय भी बैलगाड़ी पर नहीं बैठना चाहिए , उसे कोई भी आभूषण तथा कंचुकी नहीं पहननी चाहिए कुश चटाई पर सोना चाहिए और सदैव श्वेत वस्त्र पहनने चाहिए ।उसे वैशाख , कार्तिक और माघ मास में विशेष व्रत रखने चाहिए । उसे किसी शुभ कार्य में हिस्सा नहीं लेना चाहिए और हमेशा हरी का नाम जपना चाहिए । विधवा का आशीर्वाद विद्वजन ग्रहण नहीं करते मानो वह कोई सर्प विष हो । विधवाओं के प्रति यह आदेश धर्म का है , आज भी स्त्रियां ही सबसे अधिक धर्मिक प्रवृति की होती हैं ...यदि स्त्रियां धर्म का साथ छोड़ दें तो धर्म नाम की दुकान एक दिन में बंद हो जायेगी । तो आज की धर्मिक स्त्रियां, विधवाओं के प्रति धर्म के इन आदेशो को कितना सही मानती हैं ? - केशव (सजंय)..
Image
"ट्रेन की जंजीर" एक वृद्ध ट्रेन में सफर कर रहा था, संयोग से वह कोच खाली था। तभी 8-10 लड़के उस कोच में आये और बैठ कर मस्ती करने लगे। एक ने कहा, "चलो, जंजीर खीचते है". दूसरे ने कहा, "यहां लिखा है 500 रु जुर्माना ओर 6 माह की कैद." तीसरे ने कहा, "इतने लोग है चंदा कर के 500 रु जमा कर देंगे." चन्दा इकट्ठा किया गया तो 500 की जगह 1200 रु जमा हो गए. चंदा पहले लड़के के जेब मे रख दिया गया. तीसरे ने बोला, "जंजीर खीचते है, अगर कोई पूछता है, तो कह देंगे बूढ़े ने खीचा है। पैसे भी नही देने पड़ेंगे तब।" बूढ़े ने हाथ जोड़ के कहा, "बच्चो, मैने तुम्हारा क्या बिगाड़ा है, मुझे क्यो फंसा रहे हो?" लेकिन किसी को दया नही आई। जंजीर खीची गई। टी टी ई आया सिपाही के साथ, लड़कों ने एक स्वर से कहा, "बूढे ने जंजीर खीची है।" टी टी बूढ़े से बोला, "शर्म नही आती इस उम्र में ऐसी हरकत करते हुए?" बूढ़े ने हाथ जोड़ कर कहा, "साहब" मैंने जंजीर खींची है, लेकिन मेरी बहुत मजबूरी थी।" उसने पूछा, "क्या मजबूरी थी?" बूढ़े ने कहा, "मेरे पास केवल 1200 रु थे, जिसे इन लड़को ने छीन लिए और इस लड़के ने अपनी जेब मे रखे है।" अब टीटी ने सिपाही से कहा, "इसकी तलाशी लो". लड़के के जेब से 1200रु बरामद हुए. जिनको वृद्ध को वापस कर दिया गया और लड़कों को अगले स्टेशन में पुलिस के हवाले कर दिया गया। ले जाते समय लड़के ने वृद्ध की ओर देखा, वृद्ध ने सफेद दाढ़ी में हाथ फेरते हुए कहा ... "बेटा, ये बाल यूँ ही सफेद नही हुए है!" 😁😁😁😁😁😁 अंतर्राष्ट्रीय वरिष्ठ नागरिक दिवस की बधाई 🙏
Image