देवरिया अस्पताल का वीडियो जिसमें बच्ची से पोछा लगा रही थी सोशल मीडिया पर वायरल था। अब दोषियों पर कार्यवाही करने की जगह वीडियो बनाने वाले पत्रकार पर ही मुक़दमा हो गया है। महाराष्ट्र से लेकर उत्तरप्रदेश तक FIR अब फ़ैशन बन चुका है। सच दिखाने वालें अब डरें। मिर्जापुर से लेकर हरदोई तक और बनारस से लेकर देवरिया तक, उत्तरप्रदेश में पत्रकारों का सच बोलना मना है। बच्चे अस्पताल में पोछा लगाते रहें, नमक रोटी खाते रहें, विधायक दबंगई दिखाते रहें, पर सच बोलने का इनाम FIR है। मुकदमे से मुँह बंद करना क्या सच्चाई बदल देगा? जंगलराज का कारण यही है।